battle of plassey//modern history [HINDI]// - Pk hindi tech :- Technologies se related jaankari hindi me

Pk hindi tech :- Technologies se related jaankari hindi me

Youtube,make money online, latest tips and tricks, Internet, android, education,Technologies se related sabhi jaankari hindi me.

battle of plassey//modern  history [HINDI]//

battle of plassey//modern history [HINDI]//

Share This

प्लासी की लड़ाई/ बैटल ऑफ plassey 

     
  1756 में सिराज-उद-दौला , घसेटी बेगम  के साथ कड़वा उत्तराधिकार विवाद के बाद  बंगाल  की सत्ता में  आए ।

 युवा नवाब ने  सत्ता में आने के बाद, जगत सेठ भाइयों ( जो की बंगाल के दरबार  के एक मुख्य  सदस्य बन चुके थे  or साथ ही व्यापारी और बैंकर थे ) की मांगों का पालन करने से इनकार कर दिया, जो ब्रिटिश व्यापारियों के साथ निकटता का आनंद लेते थे।
नवाब ने फ्रेंच  व्यापारियों को  भी समान अधिकार और अवसर देना शुरू कर दिया, जो की East India Company  को पसंद नहीं आता था ।
 क्युकी East India Company    चाहती थी की बंगाल मे  French व्यापार न  करे ताकि उनका  दबदबा बना रहे ।
 जो की  Jagat -seth -brothers  की सहायता से होने भी लगा था मगर  Siraj -Ud -daulah  के सत्ता मे आने क बाद  French  फिर से व्यापार मे दिखने लगे थे ।

 Battle of  Plassey  के कारण :-

 Battle of  Plassey के मुख्य कारण - 

    1 1757 में  East India Company ने नवाब के दरबार के  भागोरो और  अपराधियों  को शरण देना शुरू किया। 

  2   -   उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी और नवाब के बीच हस्ताक्षरित व्यापारिक संधि  (trading treaty ) का भी उल्लंघन किया,जो  उन्हें कोलकाता मे  उनके व्यापार के पदों को दृढ़ मे  रखता था । 

  3- East  India  Company  के इन  हरकतों  को  ,Nawab ने  सीधी चुनौती के रूप में देखा। 

   * और  Nawab  ने अपने अधिकार का दावा करने का प्रयास किया  जिसे  Black Hole Tragedy  के रूप में जाना जाता है। 

 Black Hole Tragedy : British व्यापारियों को कैद करके एक कमरे में रखा गया था,जहाँ दम घुटने के कारण उनकी मृत्यु हो गई।
*   जिसके बाद Robert Clive(East India Company के सेना प्रमुख) ने दक्षिण भारत से एक दल के साथ बंगाल की ओर मार्च किया।  
  और फिर Battle  of  plassey  हुई ।


 यह एक रक्तहीन तख्तापलट था, क्योंकि Nawab   के अधिकार को सीमित करने की कोशिश में jagat  seth  brothers  ,East -India -Company के साथ मिल गए थे।
और उन्होंने मिलके Mir -Jafar (सिराज-उद-दौला  के Military  Commander ) को अपने साथ मिला  लिया जिसके कारण  Siraj-ud-Daulah आसानी से हार गया और आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर हो गया ।


और फिर Mir Jafar  को नया Nawab  बना दिया गया ।

  प्लासी की लड़ाई का महत्व :  

प्लासी के युद्ध के बाद  Jagat-Seth-Brothers और East India company ने एक संधि  पे  Mir Jafar से हस्ताक्षर कराया   जिसे  प्लासी  प्लन्डर (Plassey plunder)  के  नाम से जाना जाता है। 

संधि :प्लासी  प्लन्डर -

 1- ईस्ट इंडिया कंपनी को युद्ध के मुआवजे  के रूप में एक बड़ी राशि देना।
 2- कंपनी को बंगाल में कर मुक्त व्यापार अधिकार भी दिया।
 3-company को कर एकाधिकार (trading monopoly) प्रदान किया। (इसका मतलब है कि क्षेत्र में फ्रेंच (French) को व्यापारिक विशेषाधिकारों से वंचित किया जाना था।








2 comments:

  1. Thanks sir;IT helps me to know about BATTLE OF PLASSEY

    ReplyDelete
    Replies
    1. keep following and don't forget to share this .

      Delete