[Hindi] Continental Drift Theroy | Pangea | Gondwanaland - Pk hindi tech :- Technologies se related jaankari hindi me

Pk hindi tech :- Technologies se related jaankari hindi me

Youtube,make money online, latest tips and tricks, Internet, android, education,Technologies se related sabhi jaankari hindi me.

[Hindi] Continental Drift Theroy | Pangea | Gondwanaland

[Hindi] Continental Drift Theroy | Pangea | Gondwanaland

Share This


कॉन्टिनेंटल ड्रिफ्ट एक सिद्धांत था जिसने बताया कि कैसे महाद्वीप (Continent) पृथ्वी की  सतह पर शिफ्ट होते हैं।महाद्वीपों का 'बहाव' हो सकता है ऐसा पहली बार अब्राहम ऑर्टेलियस के द्वारा 1596 में  कहा गया था। यह कांसेप्ट पूरी तरह से 1912 में अल्फ्रेड वेगनर द्वारा विकसित की गई थी, लेकिन किसी भी ठोस सबूत की कमी के कारण उनके सिद्धांत को कई लोगों ने खारिज कर दिया था। यह कांसेप्ट 1912 में अल्फ्रेड वेगनर द्वारा स्वतंत्र रूप से और पूरी तरह से विकसित की गई थी। तब से कॉन्टिनेंटल ड्रिफ्ट का विचार, प्लेट टेक्टोनिक्स के सिद्धांत के आधार पर तय किया गया है, जो बताता है कि महाद्वीप पृथ्वी के स्थलमंडल की प्लेटों पर सवार होकर चलते हैं।

कॉन्टिनेंटल ड्रिफ्ट सिद्धांत क्या है ?

वेगनर ने सोचा कि सभी महाद्वीपों को एक बार "यूरोकॉप्टेंट" में एक साथ जुड़ने से पहले तोड़ दिया गया था और अपने वर्तमान पदों पर स्थानांतरित कर दिया गया था। लेकिन भूवैज्ञानिकों ने 1915 में "द ओरिजिन ऑफ कॉन्टेंट्स एंड ओसेन्स" नामक पुस्तक में विवरण प्रकाशित करने के बाद वेगेनर के महाद्वीपीय बहाव के सिद्धांत को स्पष्ट रूप से नकार दिया। विरोध का एक हिस्सा यह था क्योंकि वेगेनर के पास यह बताने के लिए एक अच्छा मॉडल नहीं था कि महाद्वीप कैसे अलग हो गए।


इसलिए उन्होंने अपने सिद्धांत का समर्थन करने के लिए सबूत इकट्ठा करना शुरू कर दिया।


1 :- जिग सॉ फिट ऑफ कॉन्टीनेंटस (Jig saw fit of continents ):-
     

        महाद्वीप इस तरह से हैं कि हम वास्तव में उन्हें एक साथ फिट कर सकते हैं।

2:- विभिन्न क्षेत्रों में समान जीवाश्म(fossils):-

जीव विज्ञान के क्षेत्र में एक निरंतर क्रांति हो रही थी। लोग अस्तित्व में आने से पहले पृथ्वी पर रहने वाले प्राणियों के जीवाश्मों को खोजने के लिए भूमि की खुदाई कर रहे थे। और उनका अध्ययन करने के लिए उपयोग कर रहे थे । 

इस तरह की एक पाई जाने वाली प्रजाति  मेसोसाऊरुस (Mesosaurus ) थी। यह एक ताजा पानी मे रहेने वाला जीव था। 

*जीवाश्म दो अलग-अलग क्षेत्रों में पाए गए थे-


- दक्षिण अमेरिका के दक्षिण पूर्व में ,और46

- अफ्रीका के दक्षिण पश्चिम में।
  और चूंकि यह जीव उड़ नहीं सकते थे और जैसा कि वे ताजे पानी की प्रजातियां थे, तो उनके अलग जगहे पाए जाने का एक ही मतलब निकलता था की वो जमीन क माध्यम से ही गए होंगे । और क्युकी उसस समय दोनों महाद्वीप काफी अलग थे तो इसका मतलब स्पष्ट निकलता है की दोनों महाद्वीप पहेले मिले हुए थे। 

मगर ये सबूत अभी भी पर्याप्त नहीं थे । जो उनके Pangaea(pan = entire ,gaea =earth )और panthalassa (pan =entire ,thalassa =ocean 

4) के विचार  का समर्थन करता । 

  3:-हाड़ों की भूवैज्ञानिक समानता(Geological similarities of mountains ):-

उन्होंने यह प्रमाणित करने के लिए पहाड़ों पर मीटरोलॉजिकल अध्ययन शुरू किया कि विभिन्न क्षेत्रों में मौजूद पत्थर भी समान हैं।
जैसे की उन्होंने  पाया  की   उत्तरी अमेरिका(north America ) और यूरोप(Europe ) के  पहाड़ एक ही समय में और एक ही पत्थर से बने थे, जो इस बात का प्रमाण था कि पहेले  प्लेटें पूरी तरह एक साथ थे , फिर पहाड़ बने, और फिर पृथक्करण(seperation ) होता है।

4:-पिछले जलवायु परिवर्तन(past climatic changes ):-

    जहाँ भी पहाड़ की चट्टानों में ग्लेशियर की आवाजाही होती है, वे अपने ग्लेशियल हमले छोड़ देते हैं।(glacial striations)( हिमनद की गति के कारण चट्टान पर दरार।
लेकिन उन्होंने दक्षिण अमेरिका(South America ) से लेकर ऑस्ट्रेलियाई (Australia )क्षेत्र तक  हमले पाए,जो आमतौर पर भूमध्य रेखा (equator )में मौजूद  है। 


इसके अलावा बिटुमिनस कोयला(Bituminous coalकेवल तभी पाया जाता था जब घने जंगल मिट्टी के नीचे दफन हो जाते थे। इसका मतलब है कि जहां भी बिटुमिनस कोयला पाया जाता है, वहां अतीत में घने जंगल (सदाबहार वन)(Evergreen forest ) क्षेत्र थे । 


बिटुमिनस कोयला उत्तरी अमेरिका, रूस, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका और अफ्रीका में पाया जाता है। यह निचली श्रेणियों(lower ranges) या उच्च अक्षांशों (higher latitudes)में है, जहाँ आमतौर पर सदाबहार(Evergreen forest) वन नहीं मिलते हैं, लेकिन इसका अर्थ है कि यहाँ पहले सदाबहार (Evergreen forest)वन मौजूद थे।

इससे उन्हे  एक स्पष्टीकरण मिला कि अगर ग्लेशियर भूमध्य रेखा(equator ) के पास मौजूद हैं और यदि बिटुमिनस कोयला उच्च अक्षांशों(higher latitudes ) में मौजूद है, तो एक अवधि थी जब इन जमीनों को इस तरह से व्यवस्थित किया गया था कि जहां बिटुमिनस कोयला होता है वह भूमध्य रेखा(equator )  गुजर रहा था और जहां भी पोल(pole ) मौजूद था हमने ग्लेशियर को उपस्थिति देखा । 




No comments:

Post a comment